कोरोना के कारण हज यात्रा में हुआ 90 सालों में पहली बार बहुत बड़ा बदलाव

कोरोना के बढ़ते प्रसार ने दुनिया भर में कई बड़े बदलाव कर दिया था। इस महामारी का असर तीज-त्योहारों पर भी देखने को मिल रहा है। आज जहां भारत में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा को सीमित कर दिया गया है और कहीं यह रथ यात्राएं डिजिटल माध्यम से निकाली जा रही हैं। अब इस महामारी का असर सऊदी अरब में होने वाले हज यात्रा पर भी पड़ा है। सऊदी अरब की सरकार ने भी इन लोगों की आस्था का सम्मान करते हुए सीमित हाजियों को ही हज पर जाने की इजाजत दी है।

The Gazette Today India - कोरोना के कारण हज यात्रा में हुआ 90 सालों में पहली बार बहुत बड़ा बदलाव
गेटी इमेज

सऊदी अरब के हज और उमरा मंत्रालय ने सोमवार को बयान जारी करते हुए बताया कि इस साल केवल सऊदी अरब में रह रहे लोगों को ही हज की इजाजत होगी। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए दूसरे तमाम सुरक्षात्मक प्रावधान भी अपनाए जाएंगे, परंतु सऊदी अरब सरकार ने अभी तक हज में शामिल होने वाले हादसों की संख्या पर कोई बयान जारी नहीं किया है।

सरकार ने लोगों से अपील की थी कि इस वर्ष हज की यात्रा पर ना जाए और आवश्यक हो तो अपने कार्यक्रम को आगे के लिए टाल दें। बता दें, कि सऊदी अरब की स्थापना के 90 वर्षों कभी भी हज यात्रा स्थगित नहीं हुई है। एक अनुमान के मुताबिक सालाना 20 लाख़ लोग हज यात्रा में शामिल होते हैं।

The Gazette Today India - कोरोना के कारण हज यात्रा में हुआ 90 सालों में पहली बार बहुत बड़ा बदलाव
गेटी इमेज

सऊदी अरब भी कोरोना की ज़द में है। रोजाना कोरोना के नए मामले सामने आते जा रहे हैं। वर्तमान में पूरे सऊदी अरब में 1,61,005 कोरोना के मरीज सामने आ चुके हैं और अब तक 1307 लोग इस महामारी से अपनी जान गवां चुके हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: