कोरोना के कारण टूट गई 86 साल पुरानी परंपरा इस वर्ष नहीं आएंगे विश्व प्रसिद्ध ‘लालबागचा राजा’

कोरोना महामारी के चलते दुनिया भर में गंभीर स्थिति बनी हुई है। मुंबई कोरोना से सबसे ज्यादा ग्रसित शहर है। इस महामारी का असर इस शहर की मशहूर पहचान में से एक गणेश उत्सव पर भी पड़ी है। इस साल मुंबई के प्रसिद्ध लालबाग मे गणेश उत्सव नहीं मनाया जाएगा। लालबागचा राजा गणेश उत्सव मंडल ने फैसला लिया है कि इस बार पंडाल की जगह ब्लड और प्लाजमा डोनेशन कैंप लगाया जाएगा।

The Gazette Today India - कोरोना के कारण टूट गई 86 साल पुरानी परंपरा इस वर्ष नहीं आएंगे विश्व प्रसिद्ध 'लालबागचा राजा'
गेटी इमेज

लालबागचा राजा गणेशोत्सव मंडल के सचिव सुधीर साल्वी ने बताया कि, ‘इस बार भव्य तरीके से गणेशोत्सव मनाने के बजाय लालबागचा राजा मंडल सीएम राहत फंड में राशि दान करेगा। हम एलओसी और एलएसी पर शहीद हुए जवानों के परिवार जनों को सम्मानित भी करेंगे।’

The Gazette Today India - कोरोना के कारण टूट गई 86 साल पुरानी परंपरा इस वर्ष नहीं आएंगे विश्व प्रसिद्ध 'लालबागचा राजा'
सौजन्य: लालबागचा राजा ट्विटर अकाउंट

बता दें कि मुंबई में 77,197 कोरो ना के मामले सामने आए हैं। जिसको देखते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे सभी गणपति पंडालों को गणेशोत्सव सादगी के साथ मनाने के आदेश दिए थे। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने गणपति पंडालों से मूर्ति को 4 फीट तक ही रखने पर का भी आदेश दिया था।

लालबागचा राजा गणेशोत्सव मुंबई के सुप्रसिद्ध गणेश पंडालों में से एक है जहां गणेशोत्सव के दौरान लाखों श्रद्धालु मात्र 10 दिनों में दर्शन के लिए आते हैं। दुनिया भर के सैलानी व नेता-अभिनेता भी यहां अपना माथा टेकते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: