सेफ ब्लड सेव लाइफ़, 2020 ब्लडडोनेशन डे

हर साल 14 जून को दुनिया भर में विश्व रक्तदान दिवस के रूप में मनाया जाता है इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य रक्त दान को बढ़ाना लोगों की मदद करना है रक्तदान को बढ़ाने के लिए कैंप आदि की भी मदद ली जाती है पहली बार 2004 में रक्तदान दिवस मनाया गया था डब्लूएचओ ने इसकी शुरुआत की थी।

आपको बतादें इस वर्ष विश्व रक्तदाता दिवस 2020 की थीम सैफ़ ब्लड सिर्फ़ लाइफ़ रखी गई है हर साल की तरह इस साल भी रक्तदान शिविरों की आयोजन किया गया है परंतु उसके साथ साथ सोशल डिस्टेंसइंग को भी ख़ास महत्वता दी गई है रक्तदान कैंपों में हर 2 काउच के बीच एक मीटर तक की दूरी तय की गई है।

महामारी कोवीड 19 रक्त की आवश्यकता बड़ी परंतु रक्तदाताओं में कमी देखी गई हर साल 1.35 करोड़ दाता रक्त दान की ज़रूरत होती है परंतु 1.1 करोड़ वर्ष से रक्तदान हो रहा है।

जाने एक साल में कितनी बार कर सकते हैं रक्तदान

तीन महीने के अंतराल या एक साल में तकरीबन चार बार रक्तदान किया जा सकता है। उसके लिए जरूरी है आपके शरीर में 4.5 में 5 लीटर रक्त होना चाहिए। रक्त में मौजूदा कणिकाओं की आयु 90 से 120 दिन तक होती है। इसके बाद कणिकाएं खत्म हो जाती है। रक्तदान से आपके शरीर में कोई भी कमजोरी नहीं होती है। 16 से 60 वर्ष तक के स्वस्थ मानव जिसका बजन 45 हो या उससे अधिक है, तो वह रक्तदान कर सकता है।

रक्त दिवस का इतिहास व मनाने का वजह

हर वर्ष 14 जून 1868 में पैदा हुए कार्ल लैंडसटनेर के जन्मदिन पर रक्त दिवस मनाया जाता है ज़रूरतमंद लोगों की सहायता करने के लिए दिवस का आयोजन किया गया था रक्तदान एक मुख्य भूमिका में होता है क्योंकि वो ज़रूरतमंद व्यक्ति के जीवन को बचाने के रक्त दान किया जाता है सिर्फ़ ज़रूरतमंद व्यक्ति ही नहीं गर्भवती महिलाएँ जिन्हें रक्त की कमी हो जाती है ये उनके लिए भी आयोजित किया गया था ये अभियान हर साल लाखों लोगों का जान बचाता है, ये दिवस उन लोगों को धन्यवाद देने के लिए होता है जो बिना भुगतान के रक्त दान करते है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: