चमगादड़ों की रहस्यमय मौत से उठा पर्दा, कोरोना से नहीं बल्कि इस कारण हुई मौत

पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में पिछले कुछ दिन पहले रहस्यमय परिस्थितियों में चमगादड़ों की मौत हो गई थी। वही जिसके चलते लोगों में कोरोना वायरस का और भी भय बैठ गया। बता दें कि बरेली के भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान में चमगादड़ों का शव भेजा गया था, वही रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना के कारण नहीं बल्कि अत्यधिक गर्मी के चलते ब्रेन हैमरेज के कारण उन सभी की मौत हुई थी।

इस दौरान बृहस्पतिवार को आईवीआरआई के निदेशक डॉक्टर आर. के. सिंह ने जानकारी देते हुए कहा कि चमगादड़ों की मौत का कोरोना से कोई लेना-देना नहीं था और उनकी मौत अत्यधिक गर्मी के कारण ब्रेन हेमरेज के चलते हुई थी। चमगादड़ों की रेबीज और कोरोना की भी जांच आईवीआरआई में करायी गयी, दोनों ही रिपोर्ट निगेटिव आई हैं।

आगे उन्होंने बताया कि पिछले दिनों तापमान 45 डिग्री पार कर गया था और गर्मी की प्रचंडता तथा पानी की कमी पशु और पक्षियों के लिए जानलेवा साबित हो रही है। तापमान अधिक होने से पशुओं और पक्षियों में डिहाइड्रेशन की समस्या जाती है। समय से पानी ना मिले तो यह जानलेवा भी हो सकता है।

आपको बता दें कि गोरखपुर के खजनी रेंज के बेलघाट स्थित एक बाग में पिछले महीने 300 से अधिक चमगादड़ों के मरने की खबर सामने आई थी। इसके अलावा पूर्वी उत्तर प्रदेश के बलिया में भी चमगादड़ों की मौत हो गई थी। चालीस डिग्री सेल्सियस के ऊपर का तापमान बर्दाश्त करना चमगादड़ों के लिए आसान नहीं होता। मालूम हो कि पिछले दिनों गोरखपुर और बलिया में बड़ी संख्या में चमगादड़ों की मौत हो गई थी। लोग इसे कोरोना से जोड़कर देख रहे थे। इसकी वजह से इलाके में भय व्याप्त हो गया था।

Leave a Reply

%d bloggers like this: