पुणे के अदालत ने आरोपी डॉक्टर को दी अस्थायी जमानत.. जानें क्या है मामला-

कोरोना के संक्रमण से पूरा देश जूझ रहा है। ऐसे में हमारे देश के कोरोना योद्धा जैसे पुलिसकर्मी, स्वास्थ्यकर्मी पूरी तरह से इस संक्रमण से बचाव के लिए लोगों की सहायता कर रहे हैं। वहीं पुणे की एक विशेष अदालत ने वसूली के आरोप में जेल में बंद एक डॉक्टर को अस्थायी जमानत दे दी है।

डॉक्टर के ऊपर महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री महादेव जानकर से 30 करोड़ रुपये वसूली का आरोप है। डॉक्टर का नाम इंद्रकुमार भिसे है,उसकी उम्र 52 वर्ष है। उसे मधुमेह है।

आपको बता दें डॉक्टर इंद्रकुमार भिसे ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सुनवाई के दौरान ससून अस्पताल में कोविड-19 के मरीजों की सेवा करने की इच्छा जतायी थी।

न्यायाधीश ने कहा कि आरोपी डॉक्टर को कुछ शर्तों के साथ 60 दिनों की अस्थायी जमानत दी गई है। न्यायाधीश के आदेश के अनुसार भिसे को एक सप्ताह में पांच बार सेवा देनी होगी।
जमानत के दौरान डॉ. पर किसी भी तरह का दबाव नहीं दिया जाएगा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: