लद्दाख के दो इलाको के कारण भारत और चीन में बनी तनाव की स्थिति

जहां एक तरफ देश में कोरोना वायरस का कहर बरप रहा है। वही दूसरी ओर भारत-चीन के बीच बॉर्डर पर तनाव की स्थिति बनी हुई है। बता दें कि भारत-चीन का मौजूदा विवाद लद्दाख के दो इलाको में है। एक गलवान घाटी और दूसरा फिंगर 4 में। यहां 9-10 मई से हालात तनावपूर्ण हैं। मिली जानकारी के मुताबिक दोनों ही एक तकरीबन 1000 से 1200 जवानों की तैनाती हैं। वही तनाव को लेकर भारत और चीन के ब्रिगेड कमांडर एक-दूसरे के संपर्क में हैं। इसके साथ ही राजनयिक स्तर पर भी मामले को सुलझाने की कोशिश की जा रही है। ऐसा समाधान खोजने का प्रयास हो रहा है, जो दोनो देशों को मान्य हो।

साथ ही आपको बताते चलें कि करीबन छह बार इस तरह के बड़े विवाद हुए हैं। जैसे देपसांग, चुमार, पैंगोंग, डोकलाम और नाकुला के विवाद प्रमुख है। गौरतलब है कि हमेशा विवाद स्थानीय मुद्दों पर होता है। पर इसकी असल वजह ये है कि चीन चाहता है वहां पर कोई नई गतिविधि ना हो. मसलन भारत सड़क ना बनाए. बुनियादी ढांचे को मजबूत नहीं करे.

वही चीन का आरोप है कि गलवान इलाके में भारत का दोर्बुक श्योक डीबीओ रोड बनाना हालात को बदलने की कोशिश है. जबकि भारत ने इस आरोप का खंडन किया है. भारत ने कहा कि यह सड़क अपने इलाके में स्थानीय लोगों की मदद के लिये बनाई गई है. तनाव के बाद चीन ने सैनिकों की तादाद बढ़ाई है. भारत के वहां पहले से सैनिक मौजूद हैं. यहां 2013 से भारतीय सैनिक हैं. ऐसे ही हालात फिंगर 4 में भी हुआ. यहां पर 5-6 मई को भारत और चीन के सैनिकों के बीच झड़प हुई थी. चीन ने यहां भारत के सैनिकों के लिये बनाये जा रहे शेल्टर को लेकर एतराज जताया था.

One thought on “लद्दाख के दो इलाको के कारण भारत और चीन में बनी तनाव की स्थिति

Leave a Reply

%d bloggers like this: