टीएमसी सांसद नुसरत जहां ने टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाने पर कही…बिना सोचे समझे लिया गया फैसला-

तृणमूल कांग्रेस सांसद नुसरत जहां ने टिकटॉक समेत चीन के 59 ऐप पर पाबंदी लगाने के संदर्भ में केंद्र के फैसले को ”ढकोसला तथा बिना सोचे-समझे लिया गया फैसला” बताया। उन्होंने कहा कि सरकार को इन ऐप का भारतीय विकल्प देना चाहिये क्योंकि इनसे अनेक लोगों की आजीविका जुड़ी है। आपको बता दें अभिनेत्री तथा सांसद नुसरत जहां के टिकटॉक पर भी ज़्यादा संख्या में फॉलोवर है।

उन्होंने कहा कि टिकटॉक पर पाबंदी से किसी को नुकसान नहीं होना चाहिये जिस तरह नोटबंदी के बाद हुआ था। उन्होंने एक बयान में बोला कि, ”टिकटॉक मेरे लिये मेरे प्रशंसकों और दर्शकों के साथ जुड़ने के अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों की तरह ही है। अगर यह राष्ट्रीय हित में है, तो मैं पूरी तरह से प्रतिबंध का समर्थन करती हूं। लेकिन केन्द्र सरकार का कुछेक चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाना केवल ढकोसला और बिना सोचे समझे लिया गया फैसला है।”

आपको बता दें पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवानों ने अपनी जान गंवा दी।भारत-चीन तनाव के बीच केंद्र सरकार ने एक बड़ा निर्णय लिया है। टिक टॉक समेत 59 चाइनीज ऐप पर सरकार ने प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया है।

The Gazette Today India - टीएमसी सांसद नुसरत जहां ने टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाने पर कही...बिना सोचे समझे लिया गया फैसला-


सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69ए के अंतर्गत इन 59 चीनी मोबाइल ऐप्स पर पाबंदी लगाई है. सरकार की तरफ से कहा गया कि डेटा सुरक्षा से जुड़े पहलुओं को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है. साथ ही आपको बता दें भारत में चीनी ऐप्स की तुलना में देशी ऐप्स को बढ़ावा मिल रहा है.

साथ ही आपको बताते चलें कि चीनी टिक टॉक जैसे ऐप की जगह लेने भारतीय ऐप मित्रों,चिंगारी जैसे एप लॉन्च हो चुके हैं, ये ऐप लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हो रहे हैं, मित्रों ऐप को फिलहाल गूगल प्ले स्टोर से करीब एक करोड़ लोगों ने अपने मोबाइल फोन पर इसको डाउनलोड कर लिया है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: