दिल्ली: गृहमंत्री अमित शाह ने संभाली दिल्ली की कमान..कोविड वार्डों के लिए दिए ये निर्देश-

कोरोना का प्रकोप दुनिया भर में तेजी से बढ़ रहा है. इस वैश्विक महामारी से बचने के लिए हर तरह से सावधानियां बरती जा रही हैं. भारत में महाराष्ट्र तमिलनाडु और दिल्ली इस वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं .ऐसे में केंद्रीय गृह मंत्री ने दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को मद्देनजर रखते हुए वहां के कोविड-19 वार्डों में सीसीटीवी कैमरे लगवाने के निर्देश दिए हैं।साथ ही कोरोना मरीजों के खाने पीने की सामग्री मुहैया कराने के लिए वैकल्पिक कैंटीन बनवाने का निर्देश और कोरोना योद्धाओं डॉक्टरों और नर्सों की मनो-सामाजिक काउंसलिंग किए जाने का भी सुझाव दिया.


गृह मंत्री ने दिल्ली के मुख्य सचिव को निर्देश दिया कि वे प्रत्येक कोरोनावायरस-नामित हॉस्पिटल के कोविड-19 वार्डों में सीसीटीवी कैमरे लगवाएं, जिससे उचित निगरानी हो सके और रोगियों की समस्याओं का निवारण हो सके। शाह ने मुख्य सचिव को वैकल्पिक कैंटीन स्थापित करने का भी निर्देश दिया, जिससे कोरोना मरीजों को बिना किसी परेशानी के खाना मिल सके।

अमित शाह ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्णायक नेतृत्व में भारत कोविड-19 महामारी से संकल्पबद्ध और सामूहिक रूप से लड़ रहा है और केंद्र सरकार ‘हमारे जरूरतमंद लोगों की मदद के लिये’ कोई कोर-कसर बाकी नहीं छोड़ेगी।

अधिकारियों ने मुताबिक गृह मंत्री ने अस्पताल के सम्मलेन कक्ष में वरिष्ठ चिकित्सकों से मिले और बातचीत की, शाह को कोरोना मरीजों के ठीक होने,एडमिट होने, कोरोना मरीजों की मौत, और जो मरीज इस वक्त अस्पताल में इलाज़ करवा रहे हैं इन सब चीजों के बारे में जानकारी दी गई ।

एलएनजेपी हॉस्पिटल में गृह मंत्री का यह दौरा कोरोनावायरस संक्रमण के तेजी से बढ़ रहे मामलों को लेकर चिंताओं के बीच दो दिनों में दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन, और दिल्ली के तीन नगर निगमों के महापौर और आयुक्तों तथा विपक्षी दलों के नेताओं के साथ बैठक के बाद हुआ है.


बैठक के बाद अमित शाह ने बोला कि सभी दलों को एकजुट होकर राजनीतिक मतभेद भूलकर दिल्ली के लोगों के लिए मिलकर काम करना चाहिए. गृह मंत्री अमित शाह ने सभी राजनीतिक दलों से अनुरोध किया कि वे अपने कार्यकर्ताओं से यह सुनिश्चित करने को कहें कि दिल्ली सरकार के कोविड-19 के दिशा-निर्देश जमीनी स्तर पर लागू हों. साथ ही नए तरीकों को अपनाते हुए हमें दिल्ली में कोविड-19 की जांच बढ़ानी होगी. सभी दलों के एकजुट होकर काम करने से लोगों का विश्वास बढ़ेगा और दिल्ली में कोविड-19 की स्थिति जल्द सुधर सकती है।

आपको बता दें पिछले दिनों दिल्ली के अस्पतालों में कोविड-19 मरीजों के लिए बेड की व्यवस्था न होने और प्रयोगशालाओं में जांच करवाने में होने वाली समस्याओं के साथ-साथ अन्य कई मुद्दों को लेकर दिल्ली सरकार की बहुत आलोचना हो रही है, जिस पर गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली के बिगड़ते हालात को ध्यान में रखते हुए वहां की कमान स्वयं संभालने का निश्चय किया।


साथ ही आपको बताते चलें कि भारत में कोरोना के मामले अब तक 3 लाख 32 हज़ार हो चुके हैं वहीं कोरोना से मरने वालों की संख्या 9500 हो चुकी है। महाराष्ट्र, तमिलनाडु और उसके बाद दिल्ली सबसे ज्यादा कोरोना प्रभावित जगह है।


दिल्ली में कोरोना के अब तक 42829 मामले हो गये हैं. बीते 24 घंटे में 604 मरीज ठीक भी हुए हैं, वहीं अब तक कुल 16427 मरीजों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी मिली है. पिछले 24 घंटों में 73 मरीजों की मौत हुई जो कि 24 घंटे में अब तक सबसे ज़्यादा है. दिल्ली में अब तक 1400 मरीजों की मौत हुई है, वहीं, एक्टिव मरीजों की संख्या 25002 है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: