भारत की तरह नेपाल में भी बनेगा राम मंदिर – PM ओली ने दिए निर्देश

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने एक बार फिर ‘असली अयोध्या’ का राग अलापा है।
ओली ने एक बार फिर दावा किया है कि भगवान राम की जन्मस्थली नेपाल का चितवन जिला है। इसी जिले में माडी नगरपालिका क्षेत्र है, जिसका नाम अयोध्यापुरी है। चितवन के माडी के नगर निकाय अधिकारियों को ओली ने फोन करके शनिवार को बुलाया था। दो घंटे चली बैठक के दौरान ओली ने नेपाल में राम मंदिर निर्माण का फैसला किया है। उन्होंने स्थानीय लोगों से बातचीत करके वहां मौजूद ऐतिहासिक सबूतों को संरक्षित करने के लिए कहा। इसके साथ ही और सबूत जुटाने के लिए अयोध्यापुरी में खुदाई का निर्देश भी दिया है।
उन्होंने इसके लिए स्थानीय प्रतिनिधियों को प्लान तैयार करने को भी कहा है जबकि अधिकारियों का मानना है कि पहले वहां के लोगों की असल समस्याएं हल की जाएं, उसके बाद राम मंदिर बनवाया जा सकता है। इससे पहले 5 अगस्त को भारत में पीएम नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर की नींव रखी थी।

ओली ने दिया था विवादित बयान

नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली ने विवादित बयान देते कहा था, ‘वास्तविक अयोध्या नेपाल में है, भारत में नहीं। भगवान राम का जन्म दक्षिणी नेपाल के थोरी में हुआ था। हालांकि वास्तविक अयोध्या बीरगंज के पश्चिम में थोरी में स्थित है, भारत अपने यहां भगवान राम का जन्मस्थल होने का दावा करता है।

ओली ने कहा था कि इतनी दूरी पर रहने वाले दूल्हे और दुल्हन का विवाह उस समय संभव नहीं था जब परिवहन के साधन नहीं थे। उन्होंने ये भी कहा था, ‘वाल्मीकि आश्रम भी नेपाल में है और जहां राजा दशरथ ने पुत्र के लिए यज्ञ किया था वह रिडी में है जो नेपाल में है। चूंकि दशरथ नेपाल के राजा थे यह स्वाभाविक है कि उनके पुत्र का जन्म नेपाल में हुआ था इसलिए अयोध्या नेपाल में है। नेपाल में बहुत से वैज्ञानिक अविष्कार हुए लेकिन दुर्भाग्यवश उन परंपराओं को आगे नहीं बढ़ाया जा सका।

ओली के इस दावे पर नेपाल में विपक्ष के नेता समेत भारत के विदेश मंत्रालय ने भी आपत्ति जताई थी। अयोध्या के संतों ने भी नेपाली पीएम द्वारा भगवान राम को नेपाल का बताने और असली अयोध्या नेपाल में होने के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी थी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: