आज से श्रद्धालुओं के लिए खुल गया विश्वप्रसिद्ध मां विंध्यवासिनी धाम-

कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से बचाव के लिए सभी धार्मिक स्थलों को लंबे समय से बंद कर दिया गया था. लेकिन 8 जून से चरणबद्ध तरीके से सभी धार्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति मिल गई थी विश्व प्रसिद्ध मां विंध्यवासिनी धाम के कपाट भी आज सेश्रद्धालुओं के लिए खुल गए हैं।


मंदिर व्यवस्थापक और जिला प्रशासन के विचार-विमर्श के बाद फैसला लिया गया था कि 29 जून से मां का दरबार भक्तों के लिए खोल दिया जाएगा।
विंध्य पंडा समाज से जुड़े नगर विधायक रत्नाकर मिश्र ने जानकारी देते हुए कहा कि रविवार को मंदिर का कपाट खुलने से पूर्व शनिवार से अखंड कीर्तन का आयोजन किया गया था। कीर्तन पूर्ण होने पर पूजन के बाद रविवार को विंध्य क्षेत्रवासियों के लिए मां विंध्यवासिनी का कपाट खोल दिया। 29 जून से आम श्रद्धालु भी मां विंध्यवासिनी का दर्शन कर सकते हैं।

श्रद्धालुओं को इन बातों का रखना होगा ध्यान-


श्रद्धालुओं को सरकार द्वारा जारी निर्देशों का पालन करना होगा। सामाजिक दूरी का पालन करते हुए एक बार में केवल पांच श्रद्धालुओं को गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति होगी। साथ ही मां विंध्यवासिनी के चरण स्पर्श पर आम एवं वीआईपी सभी पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध है।गर्भ गृह में सिर्फ दो पुरोहित गेट नंबर 1 एवं गेट नंबर 2 के पास बैठेंगे।

आपको बता दें 65 वर्ष से ऊपर एवं 10 वर्ष से छोटे बच्चों का मंदिर में प्रवेश वर्जित है। मंदिर में बिना मास्क लगाए कोई भक्त दर्शन नहीं कर पाएगा। मां विंध्यवासिनी मंदिर पर मुंडन संस्कार कराने की अनुमति नहीं दी गई है।
जनेऊ कराने का कार्यक्रम भक्त मां विंध्यवासिनी मंदिर के छत पर करा सकते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: