धूमधाम से निकाली जा रही भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा, पुरी के राजा ने सोने की झाड़ू से की सफाई

कड़ी शर्तो के साथ हर साल की तरह इस बार भी भगवान जगन्नाथ की ऐतिहासिक रथयात्रा (Jagannath Rath Yatra) निकाली जा रही है।  इस दौरान पुरी के राजा गजपति महाराज दिब्यासिंहा देब ने जगन्नाथ मंदिर की रथयात्रा में सोने की झाड़ू लगायी। इसे ‘छेरा पहानरा’ अनुष्ठान भी कहते हैं, जिसमें भगवान जगन्नाथ के रथ के रास्ते को सोने जड़ित झाड़ू से साफ करते हैं। 

रथयात्रा का पहला दौर पूरा होने को है। भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा के रथ गुंडिचा मंदिर पहुंच गए हैं। मंदिर के बाहर बैरिकेडिंग में रखा गया है। इसके बाद अगले 7 दिन भगवान यहीं रहेंगे। रथ उत्सव यहीं मनाया जाएगा। 1 जुलाई को भगवान जगन्नाथ फिर इन्हीं रथों में बैठकर मुख्य मंदिर पहुंचेंगे। इसे बहुड़ा यात्रा कहा जाता है। 

 जगन्नाथ पुरी में दोपहर 1.50 बजे भगवान जगन्नाथ का रथ नंदीघोष खींचा गया। इसके पहले 12.10 बजे पहला रथ तालध्वज खींचा गया। भगवान जगन्नाथ के भाई बलभद्र का काले घोड़ों से जुता रथ तालध्वज मंदिर के सेवकों ने खींचना शुरू किया। ग्रांड रोड़ पर सबसे आगे यही रथ है। इसके बाद करीब 12.50 पर देवी सुभद्रा का रथ देवदलन खींचा गया।

The Gazette Today India - धूमधाम से निकाली जा रही भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा, पुरी के राजा ने सोने की झाड़ू से की सफाई

उड़ीसा के कानून मंत्री ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश अनुसार पहले मंदिर के सभी सेवकों का कोरोना टेस्ट किया गया। इनमें से एक सेवक कोरोना पॉजिटिव निकला। उसे रथयात्रा से दूर रखा गया है। रथयात्रा सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के अनुसार ही निकाली जा रही है। 

2500 साल से ज्यादा पुराने रथयात्रा के इतिहास में पहली बार ऐसा मौका होगा, जब भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकलेगी, लेकिन भक्त घरों में कैद रहेंगे। कोरोना महामारी के चलते पुरी शहर को टोटल लॉकडाउन करके रथयात्रा को मंदिर के 1172 सेवक गुंडिचा मंदिर तक ले जाएंगे।

पुरी के राजा गजपति महाराज रथयात्रा में भाग लेने के लिए पुरी के जगन्नाथ मंदिर पहुंच गए हैं। वह ‘छेड़ा पहंरा’ की रस्म निभाएंगे। इस दौरान वह रथ पर झाड़ू लगाएंगे, जिसमें सोने का हैंडल लगा होगा।

राज्य के पुलिस महानिदेशक अभय ने कहा कि समूचे जिले में बुधवार अपराह्न दो बजे तक ‘‘कर्फ्यू जैसा’’ बंद लागू रहेगा। पुलिस महानिदेशक ने यह भी कहा कि नौ दिवसीय उत्सव में सुरक्षा के लिए पुलिस बल की 50 से अधिक प्लाटून तैनात की जा रही हैं। बल की एक प्लाटून में 30 कर्मी शामिल होते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: