भारतीय मूल के वैज्ञानिक रतन लाल 2020 के विश्व खाद्य पुरस्कार से सम्मानित होंगे, क्या है खास वजह

भारतीय वैज्ञानिकों और हुनर की विश्व भर में सराहना की जाती है। आए दिन दुनिया भर में भारतीय मूल के लोगों को वैश्विक संगठनों द्वारा उनके अविश्वसनीय कार्यों के लिए सम्मानित किया जाता है।

भारतीय-अमेरिकी, मृदा वैज्ञानिक रतन लाल को 2020 के विश्व खाद्य पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। अमेरिकी संस्थान वर्ल्ड फूड प्राइज फाउंडेशन ने 2020 के विश्व खाद्य पुरस्कार के लिए मृदा वैज्ञानिक रतन लाल के नाम की घोषणा की है।

The Gazette Today India - भारतीय मूल के वैज्ञानिक रतन लाल 2020 के विश्व खाद्य पुरस्कार से सम्मानित होंगे, क्या है खास वजह

रतन लाल ने पुरस्कार को पाने के संबंध में अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि “मुझे दुनिया भर के किसानों के लिए काम करने का विशेष अवसर और सम्मान मिला, इसके लिए मैं कृतज्ञ हूं। 2020 के विश्व खाद्य पुरस्कार पाने की असीम खुशी और उत्साह है। फिर भी मानवता को खिलाने का गंभीर दायित्व तब तक पूरा नहीं होता जब तक हर व्यक्ति को स्वस्थ धरती पर स्वच्छ वातावरण में पर्याप्त मात्रा में पौष्टिक उपलब्ध नही हो।’

मृदा वैज्ञानिक रतनलाल को क्यों दिया गया पुरस्कार

The Gazette Today India - भारतीय मूल के वैज्ञानिक रतन लाल 2020 के विश्व खाद्य पुरस्कार से सम्मानित होंगे, क्या है खास वजह
मृदा वैज्ञानिक रतन लाल

रतन लाल ने 4 महाद्वीपों के विकास कार्यों में योगदान दिया हैउनकी तकनीकों के कारण ही आज के समय में 50 करोड़ से अधिक, छोटे किसान अपनी आजीविका सुधारने में सफल हुए हैं। रतनलाल ने प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण और जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने वाले खाद्य उत्पादन को बढ़ाने के लिए मृदा-केंद्रित आईडिया तैयार करते हैं। वर्तमान में रतनलाल ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी में कार्बन प्रबंधन और सीक्वेस्ट्रेशन के संस्थापक और निदेशक हैं।

बता दें, कि अमेरिका की संस्था वर्ल्ड फूड प्राइज फाउंडेशन 1987 से यह पुरस्कार देती आ रही है। मृदा वैज्ञानिक रतनलाल को इस पुरस्कार के तहत 2,50,000 अमेरिकी डॉलर का इनाम दिया जाएगा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: