सरकार द्वारा अनुमति के बाद भी मॉल खुल के क्यों बंद रही?

उत्तरप्रदेश के एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय गुप्ता ने बताया केंद्र सरकार ने पूरे देश के मॉल खोलने की अनुमति देने के बावजूद UP की राजधानी लखनऊ में व्यापारियों ने दुकानें बंद रखने का निर्णय किया, अनुमति के अनुसार मॉले खोली गई लेकिन मॉल के भीतर दुकाने बंद रखीं गई।

व्याव्यापारी और मॉल मालिकों के बीच हुआ अनबन, व्यापारियों ने लॉकडाउन के दौरान किराया माफ़ करने कि माग की

UP में मॉल मालिक एवं व्यापारियों के बीच तकरार होने के बात सामने आ रही है सोमवार को सरकार द्वारा अनुमति के बावजूद मॉल के भीतर दुकानें बंद रही व्यापारियों ने न केवल किराया माफ़ करने की माँग की बल्कि अगले 1 साल तक प्रशासन से आर्थिक पैकेज की भी माँग के सामने रखी है।

सिर्फ़ लखनऊ में ही नहीं बल्कि प्रयागराज, कानपुर, नॉएडा, गोरखपुर, बरेली आदि शहरों में भी दुकानें बंद मिली और किरायों के साथ साथ मेंटेनेंस माफ़ करने की भी दरख्वास्त की गई हाथ तंगी की का कारण सामने आया।

व्याव्यापारियों के साथ साथ संजय गुप्ता ने भी इसका समर्थन करते नज़र आए

संजय गुप्ता ने कहा ये संक्रमण छह से आठ महीने तक कमने का संभावना कम है जिससे मॉल में ग्राहकों की संख्या कम दिखाई देगी, करोड़ों का नुक़सान का अनुमान लगाया जा रहा है फ़र्नीचर, डेकोरेशन का भी बर्बाद होने का अनुमान लगाया जा रहा है ऐसे में व्यापारियों के रोज़मर्रा की ज़िंदगी में रोज़ी रोटी पे भी संकट आ सकती है जिससे संजय गुप्ता ने लॉकडाउन के दौरान कि किराया माफ़ करने का आग्रह किया और आगे का किराया कम।

Leave a Reply

%d bloggers like this: