कोरोना वायरस के साथ बढ़ते डीज़ल-पेट्रोल के मूल्य

जहां एक तरफ़ कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन के दौरान भारत की अर्थव्यवस्था क़ाबू में नहीं आ रही है, वहीं दूसरी ओर भारत में कच्चे तेल, पेट्रोल और डीज़ल की मंगाई में वृद्धि की आशंका प्राप्त हो रही है।

मंगलवार को महानगरों में डीज़ल एवं पेट्रोल के दाम में वृद्धि पाई गई

दिल्ली कोलकाता मुंबई और चेन्नई महानगरों में डीज़ल और पेट्रोल के दामों में वृद्धि पाई गई, वही पेट्रोल का मूल्य क्रमश 54पैसे 63पैसे 52पैसे 48पैसे की बढ़ोतरी देखी गई, जबकि इसी प्रकार डीज़ल में भी क्रमश 58पैसे 62पैसे 55पैसे 49पैसे की वृद्धि देखी गई है।

आपको बता दें कि पैसों में वृद्धि केवल मंगलवार को ही ख़त्म नहीं हुआ बल्कि बुधवार को भी इसके मूल्य में वृद्धि पाई गई, दिल्ली कोलकाता मुंबई चेन्नई में पेट्रोल का मूल्य क्रमश 73.40रुपये 75.36रुपये. 80.40रुपये 77.43रुपये एवंएवं डीज़ल में क्रमश 71.62रुपये 67.63रुपये 70.35रुपये 70.13रुपये में वृद्धि पाई गई। दो दिन में पेट्रोल का मूल्य 2.14 रुपया एवं डीज़ल का मूल्य 2.23 रुपये की बढ़ोतरी देखी गई।

बढ़ती मंगाई में भारतीय अर्थव्यवस्था में पड़ा प्रभाव

साथ ही आपको बताते चलें कि कच्चे तेल के दाम में भी इज़ाफ़ा की संभावना जताई जा रही है। दरअसल, दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में आर्थिक गतिविधियों के पटरी पर लौटने से तेल की मांग में इजाफा होने की संभावना है, जिससे कीमतों को सपोर्ट मिलेगा. ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि आगामी कारोबारी सप्ताह में और तेजी आ सकती है. जाहिर सी बात है, इसका बोझ पेट्रोल और डीजल के दाम पर पड़ेगा. वही जिसके चलते इसका सामना न केवल भारत सरकार बल्कि भारत में रहने वाले हर ग़रीब-अमी को भी करना पड़ेगा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: