केरल के ग्रामीणों ने कोरोना से बचने के लिए अपनाया.. ये तरीका-

कोरोना का कहर पूरे देश में तेजी से बढ़ रहा है। सभी लोग इस संक्रमण से बचाव के लिए हर तरह से सावधानियां बरत रहे हैं। सामाजिक दूरी का पालन कर रहे ,मास्क और सैनिटाइजर का प्रयोग कर रहे हैं । वहीं केरल में इस संक्रमण से बचने के लिए एक अनोखा तरीका अपनाया गया है।

केरल के तटवर्ती जिले अलपुझा के गांव तनीरमुकम के लोगों ने छतरी को इस गर्मी के मौसम में कोरोना के खिलाफ सामाजिक दूरी बनाने के लिए एक हथियार के रूप में प्रयोग कर रहे हैं।

अलपुझा के निवासियों ने कहा कि इन तीन महीनों में इन नियमों के पालन का बहुत ज़्यादा फायदा होगा ।लोग एक दूसरे के संपर्क में नहीं आयेंगे और हम कोरोना जैसी महामारी से लड़ने में सक्षम हो सकेंगे। तनीरमुकम पंचायत की अध्यक्ष पीएस ज्योति ने कहा कि हमारा आदर्श वाक्य है ‘छतरी खोलें, चाहे बारिश, धूप या महामारी आए।

आपको बता दें कि एक महीने में प्रशासन ने कम दामों में 6,000 छाते बांटे हैं। यह तरकीब अलपुझा के विधायक और राज्य के वित्तमंत्री डॉ. टीएम थॉमस ने दिया है। उन्होंने बताया कि छतरी खुलने से इतनी तो गारंटी है कि दो लोगों के बीच एक मीटर की दूरी तो जरूर रहेगी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: