आईआईए देगी प्रवासी श्रमिकों को रोजगार-

कोरोना संकटकाल में सबसे ज्यादा प्रवासी श्रमिकों को मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है । ऐसे प्रवासी मजदूरों के लिए आईआईए ने रोजगार देने का फैसला लिया है । आईआईए लगभग पाँच लाख श्रमिकों को रोजगार देगी.

बुधवार को आईआईए के साथ प्रमुख सचिव एमएसएमई नवनीत सहगल ने वेबिनार पर बात की ।उन्होंने प्रवासी मजदूर को प्रदेश के हर जिलों में आईआईए द्वारा रोजगार उपलब्ध कराने की बात कही। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि जो मजदूर जिस जिले के हैं, उन्हें वहीं काम उपलब्ध कराएं।यदि वे फ़ैक्टरियों में काम करने में सक्षम नहीं हैं ,तो उन्हें अन्य कोई काम करवा सकते हैं। मेरठ में आईआईए पदाधिकारियों ने भी वेबिनार में भाग लिया। वार्ता में उद्यमियों ने प्रमुख सचिव के सामने अपनी समस्याएं भी रखीं।

आईआईए के राष्ट्रीय अध्यक्ष पंकज गुप्ता ने कहा कि आईआईए गांव में रोजगार के नए अवसर शुरू करने वाला है। गांव में जैविक उत्पादों, फूड एंड बेवरेज, हस्तशिल्प, हथकरघा सहित अन्य जो भी काम, उद्योग शुरू हो सकते हैं, उन्हें शुरू कराया जाएगा। ताकि जो भी प्रवासी मजदूर अपने गाँव को लौट आये हैं उन्हें यहीं पर रोजगार मिल सके.

पंकज गुप्ता ने बताया कि आईआईए अपना एक पोर्टल बनाएगा ।इस पोर्टल पर रोजगार संबंधी समस्या पर काम होगा। आईआईए के पोर्टल पर मजदूरों के नाम की पूरी सूची, उनके घर का पता, किस -किस कार्य में सक्षम हैं ,उसकी जानकारी आदि का विवरण रहेगा । जिससे कंपनियों को जिस क्षेत्र का श्रमिक चाहिए वे इस पोर्टल के माध्यम से उनसे संपर्क कर सकते हैं ।

आईआईए मेरठ के अध्यक्ष अनुराग अग्रवाल ने कहा कि प्रमुख सचिव से उद्यमियों ने अपनी- अपनी परेशानियां बतायीं ।जैसे -मजदूरों की कमी ,बिजली के बिलों में किसी तरह का छूट नहीं मिलना, बैंकों से लोन के संबंध में किसी भी तरह की कोई जानकारी ना मिलना और भी अनेक समस्याओं पर बातचीत की । प्रमुख सचिव ने बोला कि वे जल्द ही बैंकों से और आईआईए के अधिकारियों के साथ मिलकर वेबिनार करेंगे ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: