ऐतिहासिक: कोरोना संकट के बीच अमेरिका के हौसले ने भरी उड़ान…

जहां एक तरफ पूरी दुनिया में कोरोना वायरस का प्रकोप फैला हुआ है। वही कोरोना काल के बीच भी अमेरिका ने हौसले की उड़ान भरी है। बता दें कि नासा ने पहली बार प्राइवेट कंपनी स्पेसएक्स के अंतरिक्षयान से दो लोगों को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन भेजा है। बता दे कि फ्लोरिडा के केनेडी स्पेस सेंटर की छत पर खड़े होकर अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप भी इस ऐतिहासिक पल के गवाह बने। ट्रंप के साथ में बेटी इवांका और दामाद जेयर्ड भी थे.

वही स्पेसएक्स के जिस अंतरिक्ष यान में नासा के दो अंतरिक्ष यात्रियों को भेजा गया है उसका नाम द क्रू ड्रैगन है। द क्रू ड्रैगन में यात्री के रूप में नासा के एस्ट्रोनॉट बॉब बेनकेन और डग हर्ली सवार हैं जो 19 घंटे के सफर के बाद अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन पहुंचेंगे।

गौरतलब है कि इस मिशन के लिए एस्ट्रोनॉट बॉब बेनकेन और डग हर्ली का चयन साल 2000 में ही हो चुका था। वही दोनों ही स्पेस शटल के ज़रिए दो-दो बार अंतरिक्ष में जा चुके हैं. जोखिम कम से कम हो इसलिए अमेरिका के सबसे भरोसेमंद रॉकेट फॉल्कन-9 से लॉन्चिंग की गई.

मिली जानकारी के मुताबिक 2011 के बाद अमरीका में इस तरह के मिशन को पहली बार अंजाम दिया गया है। वही इस
मिशन में स्पेस एक्स जैसी एक निजी कंपनी की मदद ली गई है।

एक नज़र स्पेसएक्स

अमेरिकी उद्योगपति एलन मस्क की कंपनी है स्पेसएक्स

2002 में एलन मस्क ने इस कंपनी की नींव रखी थी

फाल्कन 9, फाल्कन हैवी रॉकेट्स पर वाणिज्यिक और सरकारी लॉन्च सेवाएं देती है स्पेस एक्स

स्पेस एक्स का मकसद है अंतरिक्ष तक आवाजही की लागत को कम करना

नासा के साथ मिलकर भविष्य हेतु कई अंतरिक्ष मिशन पर काम कर रही है

Leave a Reply

%d bloggers like this: