कोरोना टेस्टिंग के मामलों में टॉप 26वें नंबर पर भारत…ये दो देश ही है पीछे

कोरोना वायरस का कहर दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। आपको बता दें कि जैसे-जैसे वायरस का कहर बढ़ रहा है वैसे-वैसे इससे संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या में भी इजाफा होता हुआ दिखाई दे रहा है‌। वही वायरस ने पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा तबाही अमेरिका में मचाई है। अमेरिका में अब तक 18 लाख से ज्यादा कोरोना केस आ चुके हैं और एक लाख पांच हजार से ज्यादा मौत हो चुकी हैं। वही अमेरिका के अलावा यूरोप और यूके में भी कोरोना का असर सबसे ज्यादा दिखाई दिया है। एक तथ्य ये भी है कि जो देश कोरोना केस के मामले में ऊपर हैं वहां प्रति मिलियन आबादी के हिसाब से सैंपल टेस्टिंग भी अच्छे रेट में की गई है, जबकि भारत में कई गुना कम टेस्ट होने के बावजूद भी कोरोना संक्रमितों की संख्या काफी ज्यादा है। बता दें कि भारत में 10 लाख की आबादी पर सिर्फ 2876 लोगों के ही कोरोना टेस्ट किए गए हैं. ये स्थिति तब है जबकि भारत की आबादा सवा सौ करोड़ से भी ज्यादा है। वही भारत में टेस्टिंग की दर पाकिस्तान और बांग्लादेश जैसे छोटे मुल्कों के बराबर है।

बता दें कि जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार, 2 जून तक पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमितों की संख्या 62 लाख 73 हजार से ज्यादा है. इनमें सबसे ज्यादा केस अमेरिका में हैं. अमेरिका के साथ ब्राजील, रूस, यूके, स्पेन, इटली और भारत का नंबर आता है। मतलब भारत 1 लाख 98 हजार से ज्यादा केस के साथ इस लिस्ट में सातवें पायदान पर है। वही इन सभी देशों की कुल आबादी मिलकर भी भारत से काफी कम है। लेकिन कोरोना टेस्टिंग की दर इन बड़े देशों के अलावा कतर, पेरू और पुर्तगाल जैसे छोटे देशों में भी भारत से कई सौ गुना ज्यादा है।

भारत में कुल कितने टेस्ट

ICMR की तरफ से 1 जून तक जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में कुल 38,37,207 कोरोना सैंपल की टेस्टिंग की गई है। वही शुरुआत दिनों में भारत के सभी राज्यों में बहुत कम टेस्टिंग की गई. लेकिन अब धीरे-धीरे इसकी स्पीड बढ़ रही है. अब औसतन हर दिन एक लाख के पास कोरोना सैंपल की टेस्टिंग की जा रही है. इसके बावजूद मार्च से लेकर अब तक भी भारत दुनिया की तुलना में काफी कम टेस्टिंग कम कर पाया है.

हालांकि, केंद्र सरकार के मुताबिक डेथ रेट में भारत की स्थिति दुनिया के बाकी मुल्कों से काफी ज्यादा बेहतर है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: