आखिर क्यों मौत के 72 साल बाद भी इस व्यक्ति की अस्थियां सुरक्षित रखी गई हैं

भारत में हिंदू मान्यताओं में मृत्यु के बाद अस्थियों को पवित्र नदियों में प्रवाहित किया जाता है इससे यह माना जाता है कि मृत व्यक्ति की आत्मा को शांति मिलेगी। पर देश में एक ऐसे व्यक्ति की अस्थियों को पिछले 72 सालों से सुरक्षित रखा गया है, जिसके बारे में आज आप जानेंगे।

The Gazette Today India - आखिर क्यों मौत के 72 साल बाद भी इस व्यक्ति की अस्थियां सुरक्षित रखी गई हैं
गेटी इमेज

आखिर क्यों किया गया ऐसा:-

बता दे कि 30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोडसे ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या कर दी थी जिसके बाद उन्हें 15 नवंबर 1949 को मृत्युदंड दिया गया।फांसी के तख्ते पर ले जाते समय जब उनसे उनकी आखिरी इच्छा पूछी गई तो उन्होंने कहा, कि मेरी अस्थियों को तब तक सुरक्षित रखा जाए,जब तक सिंधु नदी स्वतंत्र भारत में शामिल नहीं हो जाती और मेरी अस्थियों को सिंधु नदी में तब विसर्जित किया जाए।उनकी इस इच्छा को पूरा नहीं किया जा सका इसलिए अस्थियों को आज तक सुरक्षित रखा गया है।

भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे की अस्थियों को आज तक नदी में प्रवाहित नहीं किया गया है। उनकी अस्थियों को पुणे के शिवाजी नगर में एक इमारत में सुरक्षित रखी गई हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: