इस अंतरराष्ट्रीय संस्था ने भारतीय अर्थव्यवस्था को दी निगेटिव रेटिंग, पड़ सकता है निवेश पर असर

कोविड-19 के कारण देशभर में हुए लॉकडाउन की वजह से आर्थिक स्थिति दयनीय बनी हुई है। सरकार अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए अनलॉक कर रही है। इन सभी कोशिशों के बावजूद अर्थव्यवस्था में कोई खास सुधार देखने को नहीं मिल रहा।

The Gazette Today India - इस अंतरराष्ट्रीय संस्था ने भारतीय अर्थव्यवस्था को दी निगेटिव रेटिंग, पड़ सकता है निवेश पर असर
गेटी इमेज

इसी बीच फिच रेटिंग्स ने भारत की अर्थव्यवस्था को करारा झटका दिया है। फिच रेटिंग्स ने भारत के ग्रोथ आउटलुक को स्टेबल से रिवाइज करते हुए नेगेटिव कर दिया है। फिच रेटिंग्स ने भारत की रेटिंग को BBB- रखा है। यह निवेश के हिसाब से काफी कमजोर रेटिंग है। फिच रेटिंग्स इसके बाद जंक रेटिंग को रखता है, जो कि सबसे निचला स्तर है। रेटिंग कि इस कमजोर स्थिति से सरकार की चुनौतियां बढ़ती है और निवेश प्रभावित होता है।

The Gazette Today India - इस अंतरराष्ट्रीय संस्था ने भारतीय अर्थव्यवस्था को दी निगेटिव रेटिंग, पड़ सकता है निवेश पर असर
गेटी इमेज

फिच रेटिंग्स ने बताया कि कोविड-19 की वजह से भारत में लागू सख्त लॉकडाउन के कारण अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान पहुंचा है। इस वजह से वर्ष 2020 में ग्रोथ आउटलुक कमजोर हुआ है। साथ ही सरकार पर कर्ज का बोझ भी बढ़ा है। फिच रेटिंग्स ने बताया कि वर्ष 2021 में भारत की इकोनामिक एक्टिविटी ने 5 फ़ीसदी की गिरावट आ सकती है।

बता दें, कि सरकार ने इस वर्ष बाजार से कर्ज लेने का अनुमान 12 लाख करोड रुपए तक कर लिया है। वित्त मंत्रालय ने कहा था कि चालू वित्त वर्ष में अनुमानित कर्ज 7.80 लाख करोड़ से बढ़ाकर 12 लाख करोड रुपए होगा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: