बिस्किट उत्पादन में पारले – जी ने रचा इतिहास, हुई सबसे ज्यादा बिक्री

लॉकडाउन के समय में पारले – जी ने अपने नाम एक नया कीर्तिमान दर्ज कराया है। 1938 में शुरू हुई पारले जी ने अपने 82 सालों के इतिहास में अब तक की सबसे ज्यादा बिक्री की है, हालांकि कंपनी की ओर से कोई आधिकारिक डाटा जारी नहीं किया गया है।

The Gazette Today India - बिस्किट उत्पादन में पारले - जी ने रचा इतिहास, हुई सबसे ज्यादा बिक्री

मार्च-अप्रैल के महीनों में लॉक डाउन के कारण प्रवासी मजदूरों का पारले – जी सहारा बना। पारले जी 5 रुपए में बिस्किट बेचता है, जो कि पैदल प्रवास के समय मजदूरों के लिए लाभदाई था। भारत के लगभग हर घर में पारले – जी बिस्किट को चाय के साथ खाया जाता है इस कारण लोगों ने भी काफी बड़ी मात्रा में पारले – जी को खरीद कर अपने घरों में स्टॉक कर लिया था जिससे कंपनी के उत्पादन में वृद्धि दर्ज की गई। वहीं दूसरी ओर गैर-सरकारी संगठनों (NGO’s) ने भी प्रवासी लोगों को पारले – जी का बड़ी मात्रा में वितरण किया।

The Gazette Today India - बिस्किट उत्पादन में पारले - जी ने रचा इतिहास, हुई सबसे ज्यादा बिक्री
पारले के अन्य प्रोडक्ट्स

पारले प्रोडक्ट्स के कैटेगरी हेड मयंक शाह ने कहा कि “हमने अपना मार्केट शेयर 5% तक बढ़ा लिया है और इसमें 80 से 90% योगदान सिर्फ पारले – जी का है। यह अभूतपूर्व है। यह आम लोगों का बिस्किट है लॉकडाउन की स्थिति में कंपनी ने भी कम कीमत वाले पारले – जी के उत्पादन पर अधिक ध्यान दिया।”

सामान्य दिनों में पारले कंपनी 40 करोड़ पारले जी- बिस्किट का उत्पादन करती है। वर्तमान में पारले के पास 130 फैक्ट्रियां हैं, जिनमें से 120 कांट्रैक्ट मैन्युफैक्चरिंग यूनिट हैं और 10 फैक्ट्रियां कंपनी की अपनी है। यह अनुमान लगाया जा रहा है, कि 2020 में भारत में बिस्किट का कारोबार 36 से 37 हज़ार करोड रुपए का हो सकता है।

One thought on “बिस्किट उत्पादन में पारले – जी ने रचा इतिहास, हुई सबसे ज्यादा बिक्री

Leave a Reply

%d bloggers like this: