सितंबर तक बोइंग द्वारा एयर इंडिया को उपलब्ध कराए जाएंगे, दो बी777 विमान

सोमवार को वरिष्ठ अधिकारियों ने जानकारी देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य शीर्ष भारतीय गणमान्य लोगों को लाने-ले जाने हेतु इस्तेमाल होने वाले विशेष रूप से निर्मित दो बी777 विमान सितंबर तक बोइंग द्वारा एयर इंडिया को उपलब्ध कराए जाएंगे।

 बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में, सरकारी अधिकारियों ने बताया था कि इन दो विमानों की आपूर्ति जुलाई तक की जाएगी, जो केवल वीवीआईपी यात्रा के लिए इस्तेमाल होंगे। वही सोमवार ऊ अधिकारियों ने कहा कि कोरोना के कारू कुछ देरी हुई है, लेकिन दो विमानों की आपूर्ति सितंबर तक की जा सकती है। 
इन दो बी777 विमानों का परिचालन भारतीय वायु सेना के पायलट करेंगे, न कि एअर इंडिया के पायलट। हालांकि, अधिकारियों ने कहा कि नए विशाल विमानों के रख-रखाव का जिम्मा एअर इंडिया की सहायक कंपनी एअर इंडिया इंजीनियरिंग लिमिटेड का होगा।

The Gazette Today India - सितंबर तक बोइंग द्वारा एयर इंडिया को उपलब्ध कराए जाएंगे, दो बी777 विमान

आपको बताते चलें कि फिलहाल प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति एअर इंडिया के बी747 विमानों से यात्रा करते हैं, जिनपर ‘एअर इंडिया वन’ का चिह्न होता है। एअर इंडिया के पायलट इन बी747 विमानों को उड़ाते हैं और एआईईएसएल उनका रख-रखाव करता है।

जब ये बी747 विमान इन गणमान्य लोगों को लेकर उड़ान नहीं भरते, तब उनका इस्तेमाल भारतीय राष्ट्रीय परिवाहक व्यावसायिक परिचालनों के लिए करता है।

वही इन नए विमानों का इस्तेमाल केवल गणमान्य लोगों की यात्रा में किया जाएगा। ये दोनों विमान 2018 में कुछ महीनों के लिए एअर इंडिया के व्यावसायिक बेड़े का हिस्सा थे, जिसके बाद उन्हें वीवीआईपी यात्राओं के लिए नये पुर्जे जोड़ने के लिए बोइंग को वापस भेज दिया गया था।

बी777 विमानों में अत्याधुनिक मिसाइल रक्षा प्रणाली होंगी जिन्हें लार्ज एयरक्राफ्ट इंफ्रारेड काउंटरमेजर्स और सेल्फ प्रोटेक्शन सूट्स (एसपीएस) कहा जाता है।

फरवरी में, अमेरिका ने भारत को यह दो रक्षा प्रणालियां 19 करोड़ डॉलर की कीमत पर बेचने की सहमति दी थी।
 
ये विमान ‘सेल्फ प्रोटेक्शन सूट्स’ से लैस होंगे, जिसमें इंफ्रारेड और इलेक्ट्रॉनिक जंगी तकनीक शामिल है। इसके अलावा विमानों में मिसाइल चेतावनी प्रणाली होगी, जो मिसाइलों को दूर करने में सक्षम होगी। वहीं, विमान दुश्मन की रडार प्रणाली को नाकाम करने में सक्षम तकनीक से भी लैस होंगे।

जानें खासियत

साथ ही आपको बताते चलें इन विमानों की खासियत यह है कि ये किसी भी मिसाइल हमले के खतरे का मुकाबला करने में सक्षम होंगे। बोइंग-777 विमानों के जोड़े का पहला विमान अगस्त मध्य में और दूसरा विमान सितंबर के अंत तक अमेरिका से भारत पहुंचेगा।  

Leave a Reply

%d bloggers like this: