दुनिया में बढ़ा भारत का कद, ISRO प्रमुख के. सिवान को मिलेगा अंतरिक्ष विज्ञान का सबसे बड़ा पुरस्कार

भारत के अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान-2 के बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) के प्रमुख के सिवान को भारत में हर कोई जानने लगा है। अब उनकी ख्याति में और बढ़ोतरी होने जा रही है। इसरो के प्रमुख के. सिवान को अंतरिक्ष विज्ञान के सबसे बड़े पुरस्कार से नवाजा जाएगा।

The Gazette Today India - दुनिया में बढ़ा भारत का कद, ISRO प्रमुख के. सिवान को मिलेगा अंतरिक्ष विज्ञान का सबसे बड़ा पुरस्कार
प्रतीकात्मक फोटो

इसरो के प्रमुख और भारत के जाने-माने वैज्ञानिक के सिवान को इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एयरोनॉटिक्स (IIA) द्वारा VON Karman Award 2020 के लिए चुना गया है। यह अंतरिक्ष के क्षेत्र का सबसे बड़ा वैज्ञानिक पुरस्कार है जो कि वर्ष 2021 में पेरिस में के. सिवान को दिया जाएगा।

The Gazette Today India - दुनिया में बढ़ा भारत का कद, ISRO प्रमुख के. सिवान को मिलेगा अंतरिक्ष विज्ञान का सबसे बड़ा पुरस्कार
फाइल फोटो- विक्रम लैंडर, चंद्रयान-2

बता दें, कि वर्ष 2019 के सितंबर महीने में इसरो द्वारा लॉन्च किया गया चंद्रयान-2 मिशन यह मिशन लगभग 95% तक सफल रह गया था, परंतु चंद्रमा की सतह पर लैंड करने से 2 किलोमीटर पहले ही लैंडर विक्रम का संपर्क टूट गया था। यह मिशन काफी ही जटिल था क्योंकि भारत चंद्रमा के उस हिस्से पर लेंडर उतार रहा था जो कि सबसे जटिल हिस्सा है। इसका श्रेय इसरो प्रमुख के सिवान को ही दिया जाता है।

के. सिवान से पहले दो अन्य भारतीय वैज्ञानिक कृष्णास्वामी कस्तूरीरंगन और यू. आर. राव इस पुरस्कार को प्राप्त कर चुके हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: