ई कॉन्क्लेव में बोले पीएम मोदी, नये भारत की नींव डालेगी शिक्षा नीति

अनेक वर्षों बाद नई शिक्षा नीति को मंजूरी दे चुकी है मोदी सरकार। कैबिनेट से इसको मंजूरी मिलने के बाद अब देशवासियों को अब इंतजार इसके लागू होने का है, इससे समाज और शिक्षा पर क्या असर पड़ेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ई कॉन्क्लेव के माध्यम से नई शिक्षा नीति पर बात की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति आने के बाद देश के किसी भी क्षेत्र से, किसी भी वर्ग से ये बात नहीं उठी कि इसमें किसी तरह का पक्षपात है या ये किसी एक ओर झुकी हुई है. कुछ लोगों के मन में ये सवाल आना स्वभाविक है कि इतना बड़ा सुधार कागजों पर तो कर दिया गया लेकिन इसे जमीन पर कैसे उतारा जाएगा यानी अब सबकी निगाहें इसके लागू होने की तरफ हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 21वीं सदी के ‘नए भारत’ की फाउंडेशन तैयार करने वाली है। बीते कई वर्षों से हमारे एजुकेशन में बड़े बदलाव नहीं हुए थे। परिणाम ये हुआ कि हमारे समाज में जिज्ञासा और इमेजिनेशन की वैल्यूज को प्रमोट करने के बजाय भेड़ चाल को प्रोत्साहन मिलने लगा था।

राष्ट्रीय मूल्यों के संवर्धन पर नई शिक्षा नीति के प्रभाव का उल्लेख करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हर देश अपनी शिक्षा व्यवस्था में अपनी नेशनल वैल्यूज को जोड़ते हुए और अपने नेशनल गोल्स के अनुसार सुधार करते हुए चलता है। मकसद ये होता है कि देश का एजुकेशन सिस्टम अपनी वर्तमान और आने वाली पीढ़ियों का भविष्य तैयार करे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: